जन्म कुंडली एवं उसके बारह भाव

हमारी जन्म कुंडली पर यदि हम एक नजर डालें तो हमें पता चलेगा कि हर जन्म कुंडली में बारह भाव होते हैं     

 

 

सूर्य हमेशा पूर्व दिशा में ही उदित होता है | हमारे जन्म के समय जो राशी पूर्व दिशा में होती है, हम उसे लग्न कहते हैं| इस भाव को तन भाव भी कहते हैं| इन भावों का विवरण इस प्रकार है

 

 

पहला भाव                               तन भाव एवम् लग्न भाव

दूसरा भाव                                धन भाव

तीसरा भाव                               पराक्रम भाव

चौथा भाव                                सुख भाव

पांचवां भाव                               सन्तान भाव

छठा भाव                                रोग भाव

सातवाँ भाव                               दाम्पत्य एवम् भार्या भाव

नवम भाव                                भाग्य भाव एवम् धर्म भाव

दसवां भाव                               कर्म भाव

ग्यारहवां भाव                             लाभ भाव एवम् आय भाव

बारहवां भाव                              व्यय भाव

जिस तरह बारह भाव होते हैं, उसी तरह बारह राशियाँ भी होती हैं तथा उनके स्वामी ग्रह भी होते हैं |

ज्योतिष के अनुसार हमारी कुंडली में बारह राशियों और नों ग्रहों का प्रभाव होता है | आइये हम इनके बारे में जानते हैं |

राशी संख्या          राशियाँ                         स्वामी

१.                 मेष - Aries                     मंगल - Mars

२.                 वृषभ - Taurus                  शुक्र - Venus

३.                 मिथुन - Gemini                 बुध - Mercury

४.                 कर्क - Cancer                   चंद्रमा - Moon

५.                 सिंह – Leo                      सूर्य – Sun

६.                 कन्या – Virgo                   बुध – Mercury

७.                 तुला – Libra                    शुक्र – Venus

८.                 वृश्चिक – Scorpio               मंगल – Mars

९.                 धनु –  Saggitarius             बृहस्पति – Jupiter

१०.              मकर - Capricon               शनि – Saturn

११.              कुम्भ – Aquarius               शनि –Saturn

१२.              मीन – Pisces                  बृहस्पति – Jupiter

ज्योतिष के अनुसार मेष को प्रथम राशी कहा गया है जिसके स्वामी मंगल हैं | इसी प्रकार वृष के स्वामी शुक्र, मिथुन के स्वामी बुध, कर्क के स्वामी चंद्रमा, सिंह के स्वामी सूर्य, कन्या के स्वामी बुध, तुला के शुक्र, वृश्चिक के मंगल, धनु के बृहस्पति, मकर के स्वामी शनि, कुंभ के स्वामी शनि और मीन के स्वामी बृहस्पति होते हैं | इस पूरे प्रकरण में यह पता चलता है के सूर्य और चंद्रमा को छोड़कर सभी ग्रह दो - दो राशियों के स्वामी होते हैं |

किसी भी कुंडली में बारह भाव तथा उनके कारकत्व स्थिर रहते हैं परन्तु जब व्यक्ति का जन्म होता है तब जन्म समय जो राशी पूर्व दिशा में उदित होती है वह उस व्यक्ति की लग्न राशी मानी गयी है अर्थात हम यह भी कह सकते हैं कि भाव स्थिर हैं परन्तु इन भावों में राशियाँ बदलती रहती हैं |